श्री हनुमान चालीसा

  • Post author:
  • Post category:Stotra

श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारि। बरनऊं रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि। अर्थ- श्री गुरु महाराज के चरण कमलों की धूलि से अपने मन रूपी दर्पण को पवित्र…

Continue Readingश्री हनुमान चालीसा