श्री गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र

  • Post author:
  • Post category:Stotra

श्री शुक उवाच – श्री शुकदेव जी ने कहा एवं व्यवसितो बुद्ध्या समाधाय मनो हृदि । जजाप परमं जाप्यं प्राग्जन्मन्यनुशिक्षितम ॥१॥ बुद्धि के द्वारा पिछले अध्याय में वर्णित रीति से…

Continue Readingश्री गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र